इंसान का सबसे मजबूत और धार धार हथियार है उसका इल्म:-प्रो.इरफान शाहिद

उत्तर प्रदेश ताज़ा खबर पूर्वांचल बॉर्डर स्पेशल भारत शिक्षा समाज


पूर्वांचल के सर सयैद कहे जाने वाले स्व.अब्दुल बारी खान को स्मृति में हुआ एजुकेशनल मोटिवेशन प्रोग्राम का आयोजन

गरीब असहाय बच्चों को उच्च शिक्षा दिलाना है हमारा मकसद :-डॉ फैजान अहमद

मोटिवेशनल प्रोग्राम छात्र के व्यक्तित्व के विकास में होता है सहायक:-इं इरशाद अहमद खान

सयैद असगर जमील

डुमरियागंज,सिद्धार्थनगर,18 नवंबर।इण्डो नेपाल पोस्ट


डुमरियागंज नगर पंचायत स्थित खैर एजुकेशनल इंस्टीट्यूट के सभागार में शिक्षा के स्तर को बढ़ावा देने के लिए एजुकेशनल मोटिवेशन कार्यक्रम का आयोजन हुआ। जिसमें मुंबई से चलकर विश्व विख्यात अर्थशास्त्री प्रोफेसर इरफान शाहिद मुख्य अतिथि के रूप में अपने अनुभव को उपस्थित जनों व छात्र छात्राओं से साझा किया।

पूर्वांचल के सर सैयद कहे जाने वाले स्वर्गीय डॉक्टर अब्दुल बारी खान की स्मृति में आयोजित कार्यक्रम में जनपद के अधिकांश क्षेत्रों के स्कूलों से अध्यापक व बच्चे शामिल हुए। गुरुवार को आयोजित कार्यक्रम की शुरुआत दिन मे11बजे संचालक जमाल अहमद ने आये हुए मेहमानों के परिचय से किया ।

तत्पश्चात शिक्षा के स्तर को बढ़ावा देने के क्रम में उपस्थित अध्यापकों व बच्चों को संबोधित करते हुए प्रोफेसर इरफान शाहिद ने कहा कि मेरी शुरुआती शिक्षा एक मदरसे से हुई है इल्म के ही बदौलत दुनिया के कई देशों के छात्र छात्राओं से मुझे संवाद का मौका मिला और मेरा लेक्चर अर्थशास्त्र पर मेरा लेक्चर हुआ।

उन्होंने मदरसों के बच्चों की तरफ इशारा करते हुए कहा कि अपने आप को कमजोर ना समझो। कुरान में दुनिया का हर इल्म मौजूद है। जरूरत है उसको समझ कर पढ़ो आज मदरसों से डॉक्टर ,आईएएस ,इंजीनियर ,साइंटिस्ट निकल कर देश व दुनिया के कोने कोने में काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि इंसान का सबसे मजबूत और धार धार हथियार उसका इल्म है। जिसका कोई जवाब नहीं है। बच्चों को शिक्षा को हासिल करने के समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि हमें काबिल बनना है। शिक्षा मात्र नौकरी हासिल करने का माध्यम न बने अन्यथा आप एक दायरे में बंधकर रह जाएंगे।

यदि दुनिया में नाम कमाना है तो इल्म की असल पहचान समझ कर उसे हासिल करें। अंत में बच्चों ने प्रोफेसर के सामने अपने सवालों को रखा।जिससे खुश होकर उन्होंने बच्चों को कामियाबी के गुर भी बताएं।

इस दौरान खैरटेक्निकल के प्रबंधक डॉक्टर फैजान खान ने कहा कि इस क्षेत्र में हमारा एजुकेशनल इंस्टीट्यूट बहुत छोटे पैमाने से शुरू हुआ था लेकिन हमारे पिता की मेहनत और उनके उद्देश्यों के चलते आज एक बड़े कॉलेज के रूप में काम कर रहा है।जिसका उद्देश्य है की क्षेत्र के गरीब असहाय बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए सहायता दी जाए और इस पिछड़े क्षेत्र को शिक्षा के विकास की धारा से जोड़ा जाए।

कार्यक्रम के अंत में कॉलेज के डायरेक्टर इंजीनियर इरशाद अहमद खान ने आए हुए सभी मेहमानों का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि समय-समय पर इस तरह के आयोजन करना हमारा लक्ष्य है। जिससे हमारे बच्चों और अध्यापकों को आधुनिक शिक्षा के मंत्र मिल सके।इसी क्रम में विशिष्ट अतिथि सगीर खाकसार साहित्यकार ने भी अपने विचारों को रखा।

इस अवसर पर डायरेक्टर अफ़ज़ाल अहमद,मौलना इब्राहिम मदनी, मुर्तजा खान,प्रधानचार्य फ़ैयाज़ अहमद,ऐशा गर्ल्स कालेज के प्रबंधक अब्दुल मोईद खान,केपीएस के प्रधनाचार्य रियाज़ अहमद खान,अब्दुर रहीम,सलमान हिंदी,डॉ सग़ीर अहमद,सोशल एक्टिविस्ट जी एच कादिर,आदि की उल्लेखनीय उपस्थिति रही।

 845 total views,  2 views today