जुड़ीकुइयाँ शिव कुमार हत्याकांड के कातिल चार किशोर अपराधियों को पुलिस ने पकड़ा, निर्दोष बचे, पुलिस टीम की हुई सराहना

उत्तर प्रदेश ताज़ा खबर पूर्वांचल भारत समाज

एम एस खान

सिद्धार्थनगर,12 जून। इण्डो नेपाल पोस्ट

जनपद के थाना शोहरतगढ़ पुलिस द्वारा पंजीकृत मु.अ.सं. 128/2021 धारा 302,34भादवि0 से सम्बन्धित प्रकाश में आये वांछित अभियुक्तगण के बारे मे दौरान विवेचना जरिये मुखवीर खास सूचना मिली की उपरोक्त मुकदमे से सम्बन्धित अभियुक्तगण एक ईट भट्टे के सामने ग्राम जुड़ीकुइया के पास है और कही जाने की फिराक में है इस सूचना पर थाना शोहरतगढ़ पुलिस टीम व स्वाट एवं सर्विलांस टीम जनपद सिद्धार्थनगर द्वारा मौके पर पहुंचकर चार बाल अपचारियों को अन्तर्गत धारा 302/34/404 भा0द0वि0 आज दिनांक 11.06.2021 को समय प्रातः करीब 05:30 बजे पुलिस हिरासत मे लिया गया । बाल अपचारीगण से पूछ-ताछ पर बताये कि पूर्व में अपने स्व0 पिता के मृत्यु को लेकर शंका थी, कि मेरे ही पटीदार लोग उनकी हत्या किये है, जिसकी रंजिशन में गोलू यादव पुत्र गंगाराम यादव की हत्या करने का प्लान बना रहे थे, जिसकी जानकारी मृतक शिवकुमार उर्फ तिलकराम नि0 जुड़ीकुइया थाना शोहरतगढ़ को हो गयी थी । प्लान की जानकारी और किसी अन्य को ना होने पाये, जिसके कारण शिवकुमार उर्फ तिलकराम के गले में गमछा लगाकर पटककर दबा कर हत्या कर दिये । बाल अपचारियों की निशानदेही पर मृतक का मोबाइल, चैन व आलाक़त्ल गमछा, दस्ताना, व चिप बरामद किया गया । बाल अपचारीगण को पुलिस हिरासत में लेकर आवश्यक विधिक कार्यवाही करते हुये न्यायालय भेज दिया।

बरामदगी का विवरण

पुलिस के हत्थे चढ़े बाल अपचारियों की निशानदेही पर 01 अदद मोबाइल मल्टीमीडियाVIVO (मृतक का) , 01 अदद चैन (पीली धातु, मृतक का) ,02 चिप (मोबाइल का), 03 जोड़ा दस्ताना (ग्लब्स), 01 अदद गमछा (आलाक़त्ल) पुलिस ने बरामद किया

सर्विलांस सेल की मदद से दोषी कातिलों तक पहुंचाने में एसओजी टीम को हुई आसानी, कई निर्दोष बचे

मंगलवार 08 जून की सुबह शोहरतगढ थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत जुडीकुइयां के उत्तर कुछ दूरी पर खेत में एक युवक का शव मिला था। शव की शिनाख्त गांव के शिव कुमार (25 वर्ष) पुत्र हरिद्वार यादव निवासी जुडीकुइयां के रूप में हुई थी।
मृतक के भाई के तहरीर पर पुलिस ने तीन आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर विवेचना में जुट गई। पुलिस अधीक्षक राम अभिलाष त्रिपाठी तथा पुलिस क्षेत्राधिकारी प्रदीप कुमार यादव के निर्देशन में दोषी कातिलों को खोजने के लिए पुलिस की तीन टीम घटना के बाद से ही ततपरता से लग गई। कातिलों ने शिवकुमार (24 वर्ष) की हत्या को काफ़ी सूझबूझ से अंजाम देकर पुलिस को गुमराह करने की भी साजिश रची थी। मृतक शिवकुमार की मोबाइल में हुए बातचीत और रिकॉर्ड की बातों से सर्विलांस सेल ने मदद की। एसओजी टीम प्रभारी जीवन त्रिपाठी और सहयोगी पुलिस टीम का निशाना दोषी क़ातिल की तरफ़ लगा और दोषियों ने पुलिस के हत्थे लगते ही वारदात हत्या की कहानी को स्वीकार कर सब कुछ बता दिया। मर्डर केस में पकड़े गए दोषी चार क़ातिल (बाल अपचारी) निहायत ही शातिर ठहरे। एसओजी टीम की कोशिश व समझ से तीन अन्य निर्दोष व्यक्ति (जिनके ऊपर पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्ज कर विवेचना शुरू कर दिया था ) क़ातिल के आरोपी बनने से बच गए, जिन्हें मुकदमा दर्ज के बाद पुलिस हिरासत में पूछताछ के लिए लाया गया था। हालांकि हत्या के पीछे ग्रामीण व क्षेत्र के लोग भी एक परिवार से रंजिश और प्रेम प्रसंग का प्रकरण दबे जुबान से कह भी रहे थे।

*शातिर बाल अपचारियों को *गिरफ्तार करने वाली टीम*

राजेन्द्र बहादुर सिंह, प्रभारी निरीक्षक थाना शोहरतगढ़ , उ0नि0 जीवन त्रिपाठी, स्वाट टीम, उ0नि0 अभिमन्यु सिंह थाना शोहरतगढ़ , उ0नि0 रमाशंकर राय थाना शोहरतगढ़, उ0नि0 राघवेन्द्र प्रताप यादव थाना शोहरतगढ, हे0का0 मलखा साहनी थाना शोहरतगढ़ , हे0का0 आनन्द प्रसाद यादव, स्वाट टीम, ,का0 दिलीप द्विवेदी, सर्विलान्स सेल, का0 दिलीप कुमार थाना शोहरतगढ़, का0 अशोक कुमार थाना शोहरतगढ़, का0 सत्यराम यादव थाना शोहरतगढ़ ,का0 पवन तिवारी, स्वाट टीम, का0 अखिलेश यादव, स्वाट टीम, का0 मृत्युन्जय कुशवाहा, स्वाट टीम, जनपद सिद्धार्थनगर गिरफ्तारी टीम में शामिल रहे।

 840 total views,  2 views today